Women’s Day: थप्पड़ से लेकर राजी तक ऐसी फिल्में जो दर्शाती हैं महिलाओं का संघर्ष

महिलाओं का संघर्ष
महिलाओं का संघर्ष

नई दिल्लीः हर साल 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है. आज महिलाएं किसी भी क्षेत्र में पुरुषों से पीछे नहीं हैं बल्कि उनके साथ कदम से कदम मिलाकर चल रही हैं। वहीं, बॉलिुवड इंडस्ट्री में पहले की अपेक्षा महिला प्रधान फिल्में बन रही हैं और बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर इन फिल्मों को जरूर देख सकते हैं।

महिलाओं का संघर्षथप्पड़-

तापसी पन्नू की फिल्म ‘थप्पड़’ को अनुभव सिन्हा ने डायरेक्ट किया था। फिल्म की कहानी घरेलू हिंसा को लेकर है। फिल्म में दिखाया जाता है कि पति व परिवार की जिम्मेदारी संभालते संभालते कैसे एक महिला खुद को खो देती है। इस बीच अगर उनसे एक थप्पड़ भी मारा जाए तो वह हिंसा में आता है। ये फिल्म महिलाओं को मारपीट जैसे अपराध के बारे में चेताती है।

महिलाओं का संघर्ष
महिलाओं का संघर्ष

इंग्लिश विंग्लिश-

बॉलिवुड इंडस्ट्री की दिवंगत अभिनेत्री श्रीदेवी की फिल्म ‘इंग्लिश विंग्लिश’ में एक ऐसी महिला का किरदार निभाया जो पूरी जिंदगी अपने बच्चों और पति के लिए समर्पित रही। लेकिन बदले में जो इज्जत उसे मिलनी चाहिए थी वो उसे नहीं मिली। अंग्रेजी न आने के कारण अक्सर उसका पति और बच्चे मजाक उड़ाते थे और उन्हें काम आंकते थे। फिल्म में दिखाया गया है कि किस तरह वो अंग्रेजी सीखती हैं और अपने आपको साबित कर देती हैं।

दिल्ली में सरकारी नौकरी की इच्छा रखने वाले उम्मीदवारों के लिए खुशखबरी

महिलाओं का संघर्ष
महिलाओं का संघर्ष

क्वीन-

कंगना रनौत की फिल्म ‘क्वीन’ को लोगों ने काफी पसंद किया है। फिल्म में मॉडर्न जमाने की एक सीधी-सादी लड़की की एक खूबसूरत कहानी है, जो पैरंट्स की मर्जी से शादी करना, पति की मर्जी से अपने जीवन के फैसले लेने को ही अपना धर्म मानती है। फिल्म में मजेदार ट्वीस्ट तब आता है, जब लड़का शादी करने के लिए मना कर देता है तो लड़की अकेले हनीमून पर निकल जाती है। फिल्म में कंगना रनौत के साथ राजकुमार राव हैं।

महिलाओं का संघर्षपिंक-

अनिरुद्ध रॉय चौधरी के डायरेक्शन में बनी फिल्म ‘पिंक’ साल 2016 में रिलीज हुई थी। फिल्म में तापसी पन्नू ने महिला सशक्तिकरण का नारा उठाया था। उन्होंने शारीरिक संबंध को लेकर सहमति पर खुलकर बात रखी और यह एहसास दिलाया कि ‘न का मतलब सिर्फ न ही होता है’। फिल्म में उन्होंने हर तरह की मुसीबतों का सामना किया लेकिन आखिर में जीत चुकी होती है।

Women’s Day: महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए सरकार की यह खास योजनाएं

महिलाओं का संघर्ष
महिलाओं का संघर्ष

राजी-

मेघना गुलजार के डायरेक्शन में बनी फिल्म ‘राजी’ साल 2018 में रिलीज हुई थी। फिल्म में आलिया भट्ट एक हिंदुस्तानी जासूस लड़की है, जो देश की रक्षा के लिए पाकिस्तान जाने से भी नहीं कतराती। वो पाकिस्तानी लड़के से शादी करती है जो आर्मी ऑफिसर है। वहां जाकर वो जासूसी करती है, हिम्मत दिखाती है, बलिदान देती है लेकिन आखिर में उसे सिर्फ अकेलापन मिलता है। लेकिन देश के आगे वो इसके लिए भी राजी है। फिल्म में एक महिला के हर रूप को बखूबी दर्शाया गया है।

 

Leave a comment

Your email address will not be published.