बिहार : CRPF जवानों ने 83 बारूदी सुरंगों को किया डिफ्यूज, जानें क्या है मामला

बारूदी सुरंगों को किया डिफ्यूज
बारूदी सुरंगों को किया डिफ्यूज

नई दिल्ली : बिहार के गया जिले में कोबरा 205, सीआरपीएफ 159 ओर 47 बटालियन के जवानों के संयुक्त अभियान किया। उस में जवानों ने अति नक्सल प्रभावित क्षेत्र डुमरिया प्रखंड के छकरबंधा वन क्षेत्र में बारूदी सुरंग को नष्ट किया है ।

आईईड़ी बरामद
आईईड़ी बरामद

बता दें कि नक्सलियों ने ढकपहाड़ी, सागरपुर और खजौतिया जाने वाले रास्तों पर बारूदी सुरंग बिछा रखा थी । साथ ही नक्सलियों ने सागरपुर से डेढ़ किलोमीटर दक्षिण , ठकपहारी से डेढ़ किलोमीटर उत्तर पूर्व और औरंगाबाद जिले के मदनपुर के सीमावर्ती क्षेत्र में लगभग 150 मीटर में कुल 83 बारूदी सुरंग बिछाई थी। सुरक्षा बलों के जवानों ने नष्ट किया है।

नक्सलियों से निपटेंगी अब कोबरा यूनिट की महिला कमांडो

आईईड़ी बरामद

नक्सलियों द्वारा लगाए गए बारूदी सुरंग में तीन आईईडी 20 किलोग्राम, 71 आईईडी 10 किलोग्राम और 9 आईईडी 5 किलोग्राम सहित कुल 815 किलोग्राम विस्फोटक बारूद का इस्तेमाल किया था इन सभी आईईडी को सीरीज में लगाया गया था, जिस से पुलिस, सीआरपीएफ और कोबरा के जवानों को भारी मात्रा में नुकसान हो सके। अगर नक्सली अपनी इस योजना में सफल होते तो सुरक्षाबलों को भारी नुकसान उठाना पड़ता था बता दें कि यह पूरा अभियान कमांडेंट 205 कोबरा के नेतृत्व में पुलिस उपमहानिरीक्षक सीआरपीएफ गया के निर्देशन में किया था । उस से भी पहले 12 जनवरी को 34 आईईडी को बरामद कर उसे डिफ्फुज किया था।

नक्सलियों के विरुद्ध अभियान
नक्सलियों के विरुद्ध अभियान

अभियान नक्सलियों  के विरूद्ध 

नक्सलियों के विरुद्ध चलाये जा रहे सर्च अभियान में कोबरा 205 के जवानों के द्वारा लुटुआ थाना के जंगलों में नक्सलियों के द्वारा 34 आईईडी को डिफ्यूज किया गया था। सर्च अभियान के दौरान नक्सलियों के द्वारा लगाई आईईडी बम भुसिया से लगभग डेढ़ किलोमीटर उत्तर- पश्चिम पहाड़ी पर 100 मीटर के दायरे में प्लांट किये गए थे। उस में से 34 लैंड माइन्स को न्ष्ट करने की कार्रवाई की गई। बरामद किए गए आईईडी में 10 किलोग्राम के 9, पांच किलोग्राम के 10 ,3 किलोग्राम के 15 आईईडी तथा भारी मात्रा में डेटोनेटर कॉर्डेक्स के बिजली के तार बरामद किये थे। बता दें कि नक्सलियों के द्वारा जिले के दूरवर्ती सुइलाकों में बड़े पैमाने पर अवैध अफीम की खेती की जाती है। उसे सुरक्षा बलों के द्वारा चिन्हित कर सेकड़ो अफीम की खिती को नष्ट किया गया था। उसके बाद बौखलाए नक्सलियों ने इस तरह की घटना को अंजाम देने के लिए योजना बनाई थ।

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *