नई खोज : अंटार्कटिका में बर्फ के 900 मीटर नीचे मिला ‘जीवन’ होने का प्रमाण

नई दिल्ली : अंटार्कटिका के हालात ऐसे हैं कि यहां जीवन की कल्पना करना भी संभव नहीं है। पूरी तरह बर्फ की चादर से ढके इस महाद्वीप पर पिछले कई सालों से जीवन की तलाश में निकले वैज्ञानिकों को बड़ी सफलता हाथ लगी है। दरअसल, ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वे के वैज्ञानिकों की एक टीम को बर्फ के करीब 900 मीटर नीचे स्थायी जीव मिले हैं,और 900 मीटर बर्फ के नीचे का ऐसा नजारा देखकर वैज्ञानिक भी हैरान हैं।

अंटार्कटिका
अंटार्कटिका

lunar eclipse 2020 : साल का पहला चंद्र ग्रहण कल जानिए कैसा रहेगा ये ग्रहण

अंटार्कटिका में बर्फ के 900 मीटर नीचे मिली जिंदगी

काले अंधेरे के बीच यहां जगह पर पानी का तापमान -2.2 डिग्री सेल्सियस है। ऐसे में यहां किसी तरह का रिसर्च करना जान की बाजी लगाने जैसा ही है। आपको बता दें कि ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वे के वैज्ञानिकों ने यहां ड्रिलिंग कर बर्फ के करीब 900 मीटर नीचे एक बोरहोल में एक कैमरा छोड़ा था। और इसके अंदर ऐसा नजारा देखने को मिला कि सब हैरान रह गए। उन्होने देखा कि यहां स्थायी जीव घर बना रहे हैं। खास बात तो यह है कि ये जीव अपने खाने के साधन से 200 मील दूर हैं फिर भी उनका जीवन वहां पनप रहा है।

अंटार्कटिका
अंटार्कटिका

सबसे बड़ा अखाडा: कृषि कानून पर पीछे हटने को राजी नहीं किसान || Live News

ब्रेकिंग ऑल द रूल्स

वैज्ञानिक ने इस रिसर्च का नाम ही ‘ब्रेकिंग ऑल द रूल्स’ यानी ‘सारे नियम तोड़ने वाला’ रख दिया है। इस खोज के बाद ब्रिटिस अंटार्कटिक सर्वे के मुख्य वैज्ञानिक और रिसर्चर डॉ. हूव ग्रिफिथ ने बताया कि अंटार्कटिका में जीवों की परिस्थितियों को अपनाने की क्षमता नजर आती है। साथ ही उनका कहना है कि इस खोज से कई सवाल खड़े हुए हैं, जैसे- ये जीव यहां कैसे पहुंचे, ये क्या खा रहे हैं, ये कब से यहां पर रह रहे हैं, चट्टानों के नीचे ऐसा जीवन कितना सामान्य है और क्या ये नई प्रजातियां हैं। इस महाद्वीप में जीवन असामान्य है, ऐसे में बर्फ की चादर ढक जाने के बाद यहां जीवन कैसा होता होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.