दिल्ली पुलिस की फर्जी खबर पोस्ट करने वाला गिरफ्तार, अन्य हिरासत में

दिल्ली पुलिस
दिल्ली पुलिस

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने दिल्ली पुलिस की फर्जी खबर पोस्ट करने के मामले में एक आरोपित को गिरफ्तार किया है। जबकि अन्य को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है। बताया जरा है की दोनों राजस्थान के रहने वाले हैं। गिरफ्तार आरोपित की पहचान राजस्थान के चूरू जिला निवासी ओम प्रकाश धत्तरवाल के रूप में हुई है। दोनों ने किसान आंदोलन के दौरान आनलाइन मीडिया पर दिल्ली पुलिस से संबंधित फर्जी खबर को वायरल किया था।

दिल्ली पुलिस
दिल्ली पुलिस

Mobile became expensive in this year’s budget | साल के इस बजट में मोबाईल हुआ महंगा, यह रहा सस्ता

झूठी अफवाह –

दिल्ली पुलिस का कहना है की इस मामले में जल्द और गिरफ्तारियां हो सकती हैं। दिल्ली पुलिस ने लोगों को सलाह दी है कि वे प्रामाणिकता की पुष्टि किए बिना ऐसी किसी भी पोस्ट को साझा ना करें। ऐसा करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सकती है।। पोस्ट में बताया जा रहा था कि किसान आंदोलन पर कार्वाई को लेकर दिल्ली पुलिस के कर्मी असहमत हैं। दिल्ली पुलिस की तरफ से जब छानबीन हुई तो पता चला कि कुछ लोग अन्य वीडियो को दिल्ली पुलिस की बात पर अफवाह फैला रहे हैं

इससे लोगों के बीच गलत संदेश जा रहा था। जिसके बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू की। जांच में पता चला कि जो वीडियो दिल्ली पुलिस का बता आनलाइन मीडिया में शेयर की जा रही है वह किसान आंदोलन का ना होकर सितंबर 2020 की अन्य राज्य की होम गार्ड की है।

दिल्ली पुलिस
दिल्ली पुलिस

आरोपी की पहचान-

जिसके बाद इंस्पेक्टर ब्रह्म प्रकाश की टीम ने फर्जी वीडियो और खबर को वायरल करने वाले की पहचान कर ओम प्रकाश धत्तरवाल को गिरफ्तार कर लिया। उसने किसान आंदोलन राजस्थान के नाम से एक फेसबुक अकाउंट बना रखा था। आरोपित ने सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा और स्नातक की पढ़ाई कर रखी है। वह सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहता है। उसके पास से अपराध में प्रयुक्त मोबाइल व लैपटाप इत्यादि बरामद कर लिए गए हैं। अन्य मामले में राजस्थान के भरतपुर निवासी एक शख्स को पुलिस ने हिरासत में लिया है। उसने अपने ट्विटर अकाउंट पर 200 दिल्ली पुलिस कर्मियों के इस्तीफे की भ्रामक व फर्जी खबर अान लाइन मीडिया पर पोस्ट की थी। बाद में अन्य लोगों ने उसे शेयर किया था।

Leave a comment

Your email address will not be published.