छत्रपति शिवाजी जयंती : समस्त भारत के गौरव शिवाजी का ऐसा था जीवन

छत्रपति शिवाजी जयंती :
छत्रपति शिवाजी जयंती :

नई दिल्ली : 19 जनवरी को भारतीय इतिहास में वीर सपूत और मराठा समाज के गौरव छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती को मनाया जाता है। छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती पर हर साल सोभा यात्रा निकाली जाती है, लेकिन इस बार कोरोना वायरस को देखते हुए शोभा यात्रा नहीं निकालने का निर्णय लिया गया है। जयंती समारोह बूढ़ेश्वर मंदिर स्थित सभागृह में संपन्न किया जाएगा।

छत्रपति शिवाजी जयंती :
छत्रपति शिवाजी जयंती :

छत्रपति शिवाजी जयंती 

आपको बता दें कि छत्रपति शिवाजी एक महान देशभक्त होने के साथ ही कुशल प्रशासक भी थे। शिवाजी महाराज का जन्म 19 फरवरी 1630 को मराठा परिवार में शिवनेरी दुर्ग में हुआ था। इस साल देशभर में उनकी 391वीं जयंती मनाई जा रही है, शिवाजी के पिता शाहजी भोसले सेना में सेनापति थे, तो वहीं उनकी माता जीजाबाई धार्मिक स्वभाव की थीं। शिवाजी का पालन-पोषण धार्मिक ग्रंथ सुनते सुनते हुआ था। माता जीजाबाई धार्मिक स्वभाव वाली होते हुए भी गुण-स्वभाव और व्यवहार में वीरंगना नारी थीं उनके अंदर बचपन में ही शासक वर्ग की क्रूर नीतियों के खिलाफ लड़ने की ज्वाला जाग गई थी। वहीं दादा कोणदेव के संरक्षण में शिवाजी सभी तरह की सामयिक युद्ध आदि विधाओं में भी निपुण बनाया था।

सबसे बड़ा अखाडा: कृषि कानून पर पीछे हटने को राजी नहीं किसान || Live News

छत्रपति शिवाजी जयंती :
छत्रपति शिवाजी जयंती :

शिवाजी महाराज बहुत वीर थे उनकी बहादुरी के किस्से आज भी लोगों में जोश भर देते हैं। छत्रपति शिवाजी महाराज मराठा थे और, सन (1630-1680) भारत के राजा एवं रणनीतिकार थे जिन्होंने 1674 में पश्चिम भारत में मराठा साम्राज्य की नींव रखी। सन् 1674 में रायगढ़ में उनका राज्याभिषेक हुआ और छत्रपति बने थे।

Chhatrapati Shivaji की Jayanti आज, जानिए कौन थे छत्रपति शिवाजी

छत्रपति शिवाजी जयंती :
छत्रपति शिवाजी जयंती :

छत्रपति शिवाजी एक महान योद्धा और कुशल रणनीतिकार 

शिवाजी को भारत के एक महान योद्धा और कुशल रणनीतिकार के रूप में देखा जाता है, शिवाजी ने गोरिल्ला वॉर की एक नई शैली विकसित की थी और राज काज में फारसी की जगह मराठी और संस्कृत को अधिक प्राथमिकता दी थी। उन्होंने मुगलों की ढेर सारी संपत्ति और सैकड़ों घोड़ों पर अपना कब्जा जमा लिया था। बताया जाता है कि 1680 में कुछ बीमारी की वजह से अपनी राजधानी पहाड़ी दुर्ग राजगढ़ में छत्रपति शिवाजी की मृत्यु हो गई थी। जिसके बाद उनके बेटे संभाजी ने राज्य की कमान संभाली थी।

Leave a comment

Your email address will not be published.