चंद्रग्रहण 2020 : साल का अंतिम चंद्रग्रहण जानिए कहाँ कहाँ देगा दिखाई

चंद्रग्रहण 2020
चंद्रग्रहण 2020

नई दिल्ली : साल का आखिरी चंद्र ग्रहण 30 नवंबर को है. खास बात ये है कि ये चंद्र ग्रहण इस बार कार्तिक पूर्णिमा (Kartik Purnima 2020) के दिन पड़ रहा है. ये चंद्र ग्रहण एक उपछाया ग्रहण होगा. आइए जानते हैं कि ये चंद्र ग्रहण कहां-कहां दिखाई देगा और भारत में इसका क्या असर होगा. चंद्र ग्रहण का समय  30 नवंबर को पड़ने वाला चंद्र ग्रहण  दोपहर 1 बजकर 4 मिनट पर शुरू होगा और शाम 5 बजकर 22 मिनट पर खत्म होगा. ये चंद्र ग्रहण पूर्णिमा तिथि को रोहिणी नक्षत्र और वृषभ राशि में होगा. चंद्र ग्रहण का समय 30 नवंबर को पड़ने वाला चंद्र ग्रहण दोपहर 1 बजकर 4 मिनट पर शुरू होगा और शाम 5 बजकर 22 मिनट पर खत्म होगा. ये चंद्र ग्रहण पूर्णिमा तिथि को रोहिणी नक्षत्र और वृषभ राशि में होगा.

चंद्रग्रहण 2020
चंद्रग्रहण 2020

चंद्र ग्रहण के शुरु होने से 9 घंटे पहले सूतक लग जाता है. हालांकि ये चंद्र ग्रहण एक उपछाया ग्रहण है और ये भारत में दिखाई नहीं देगा, इसलिए यहां इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा.

ये चंद्र ग्रहण उपछाया चंद्र ग्रहण है जो भारत में दिखाई नहीं देगा. शास्त्रों में उपछाया चंद्र ग्रहण को ग्रहण नहीं माना जाता है. इसलिए ना तो यहां सूतक काल माना जाएगा और ना ही किसी तरग के कार्यों पर पाबंदी होगी. हालांकि नक्षत्र और राशि में लगने का असर जातकों पर जरूर पड़ेगा. ये ग्रहण वृषभ राशि में लगेगा इसलिए वृषभ राशि के जातकों को ग्रहण काल के दौरान कुछ परेशानियों से गुजरना पड़ सकता है.

ये है उपछाया-

चंद्र ग्रहण के शुरू होने से पहले चंद्रमा धरती की उपछाया में प्रवेश करता है. जब चंद्रमा पृथ्वी की वास्तविक छाया में प्रवेश किए बिना ही बाहर निकल आता है तो उसे उपछाया ग्रहण कहते हैं. चंद्रमा जब धरती की वास्तविक छाया में प्रवेश करता है, तभी उसे पूर्ण रूप से चंद्रग्रहण माना जाता है. उपछाया ग्रहण को वास्तविक चंद्र ग्रहण नहीं माना जाता है. ज्योतिष में भी उपछाया को ग्रहण का दर्जा नहीं दिया गया है.

Leave a comment

Your email address will not be published.