गौतमबुद्ध नगर: जेवर टोल पर लगा एक किलोमीटर का जाम, फंसे रहे यात्री

गौतमबुद्ध नगर
गौतमबुद्ध नगर

नई दिल्लीः गौतमबुद्ध नगर: होली सभी अपने घर मनाना पसंद करते हैं इसी जल्दबाजी ने नोएडा से लेकर ग्रेटर नोएडा तक सड़कों पर भारी परेशानी खड़ी कर दी। दिल्ली-नोएडा लिंक रोड से लेकर नोएडा-ग्रेनो एक्सप्रेसवे और यमुना एक्सप्रेसवे तक वाहनों की रफ्तार धीमी पड़ गई। सड़कों पर जाम जैसे हालात बन गए। देर शाम तक नोएडा और ग्रेटर नोएडा की सड़कों पर वाहन रेंगते रहे। जेवर टोल प्लाजा पर कई किमी लंबे जाम की सूचना पाकर खुद डीसीपी ट्रैफिक गणेश प्रसाद साहा मौके पर पहुंचे। टोल प्लाजा की सभी लेन खुलवाकर जाम से निपटने का प्रयास किया गया।

टोल के प्रबंधक जेके शर्मा ने बताया कि आम दिनों में टोल से गुजरने वाले वाहनों की संख्या 10 से 15 हजार तक रहती है। शनिवार को एनसीआर से आए लगभग 30 हजार वाहनों की वजह से यहां जाम की स्थिति बन गई।

नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर 100 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से फर्राटा भरने वाले वाहन 50 की गति सीमा भी पार नहीं कर पाए। एक्सप्रेसवे के सेक्टर-136 एडवांट कट के पास सड़क निर्माण कार्य की वजह से डायवर्जन ने एक्सप्रेसवे पर जाम की समस्या को बढ़ा दिया। फिल्म सिटी की ओर से सेक्टर-18, सेक्टर-17 होकर अट्टापीर चौक की तरफ आने वाली सड़क को मरम्मत कार्य के लिए बंद रखा गया। वन-वे ट्रैफिक की वजह से यहां भी जाम की समस्या बढ़ गई। सुबह करीब 10.30 बजे नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर महामाया फ्लाईओवर के नजदीक गैस का टैंकर ले जा रहा ट्रक खराब हो गया, जिससे यहां भी यातायात व्यवस्था बाधित रही।

गौतमबुद्ध नगर: सभी 16 लाइनें खोलीं

होली के त्योहार पर पड़ने वाली छुट्टियों में जब शनिवार सुबह से ही दिल्ली-एनसीआर में रहने वाले प्रदेश व राजस्थान के लोग यमुना एक्सप्रेस वे के रास्ते अपने घरों को निकले तो यमुना एक्सप्रेसवे पर वाहनों की कतारें लग गई। वाहन की कतार का फोटो सोशल मीडिया पर भी छा गया। टोल कर्मचारियों ने आगरा की ओर जाने वाली सभी 16 लाइनों को चालू कर किसी तरह जाम पर काबू पाया। इस दौरान लोगों को आधे घंटे से भी अधिक समय तक जाम से जूझना पड़ा।

दिल्ली में लॉकडाउन लगेगा या नहीं? सामने आया स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का बयान

जेवर टोल प्लाजा पर शनिवार सुबह से ही आम दिनों की अपेक्षा दो से तीन गुने वाहन पहुंचने शुरू हो गए। हालांकि, टोल प्रशासन ने आगरा की तरफ जाने वाली सभी 16 लाइनों को सुबह 7 बजे से ही चालू करा दिया लेकिन वाहनों की बढ़ती संख्या के चलते जाम के हालात बनते चले गए और सुबह 10 बजे तक वहानों की लाइन एक्सप्रेस वे पर लगभग आधा किलोमीटर से भी अधिक तक पहुंच गई।

होली, दिवाली या छुट्टियों में झेलनी पड़ती है समस्या

पिछले कई वर्षो से होली दीपावली के अलावा भाई मुख्य त्योहारों पर दिल्ली एनसीआर से लोग यमुना एक्सप्रेस वे के रास्ते अपने घरों के लिए निकलते हैं। लेकिन जल्दी सफर तय करने के चक्कर में यात्रियों को जाम से दो चार होना पड़ता है। पिछले साल होली और इस साल दिवाली के पहले ग्रेटर नोएडा से आगरा की तरफ जाने वाले रास्ते पर जाम लगा था और त्योहार के बाद आगरा से ग्रेटर नोएडा आने वाले रास्ते पर भी यही हाल रहा था।

दी गई हिदायत, तेज और गलत ड्राइविंग न करें

मेरठ में रोडवेज बस से हुए हादसे के बाद मोरना बस डिपो के एआरएम हाकिम सिंह ने डिपो में पहुंचने वाली बसों के चालक-परिचालकों को एकत्र करते और उनको दिशा निर्देश देते कि किसी भी हालत में गलत ड्राइविंग न की जाए और न ही तेज गति से बस को दौड़ाया जाए। भीड़भाड़ वाले इलाकों में बसों को तेज न चलाए। यदि चालक का ध्यान भंग हो जाए तो परिचालक की भी जिम्मेदारी है कि वह भी चालक को समय-समय पर सचेत करते रहें।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *