अच्छी पहल : UP सरकार की गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना से लाखो लोगों को मिलेगा रोजगार

गंगा एक्सप्रेसवे
गंगा एक्सप्रेसवे

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश में बनने जा रहा गंगा एक्सप्रेसवे अपने शुरूआती दौर से ही लोगों को रोजगार मुहैया कराएगा। क्योंकि इस दौरान जमीन अधिग्रहण का काम हो या निर्माण काम। हजारों कारीगरों, श्रमिकों को काम मिलेगा। यही नहीं जब यह परियोजना तीन साल में पूरी होगी तो औद्योगिक विकास के जरिए लाखों लोगों को रोजगार मुहैया कराने का जरिया बनेगी।

गंगा एक्सप्रेसवे
गंगा एक्सप्रेसवे

गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना-

बता दें की गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना के लिए जमीन अधिग्रहण काम शुरू हो गया है। इसके लिए लेखपाल, तहसीलदार व राजस्व अधिकारी राजस्व विभाग से प्रतिनियुक्ति पर लिए जाएंगे। जब इसका निर्माण शुरू होगा तो चयनित निर्माण एजेंसियां अपने अपने स्तर पर इंजीनियरों, कारीगरों व श्रमिकों की भर्ती करेंगी। इस वक्त पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के निर्माण में एक वक्त में पांच से छह हजार श्रमिक रोजाना काम कर रहे हैं। और इतने ही बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे पर काम पर लगाए गए हैं।

गंगा एक्सप्रेसवे
गंगा एक्सप्रेसवे

वहीं माना जा रहा है कि 396 किमी के गंगा एक्सप्रेसवे वे बनाने के लिए दस हजार श्रमिकों की जरूरत पड़ेगी। इसके अलावा टेक्निकल स्टाफ को अलग से लगाया जाएगा। यूपीडा के एक अधिकारी बताते हैं कि 36 नए पदों पर स्टाफ रखने के लिए शासन से अनुमति मांगी गई है। जिन जिलो से एक्सप्रेसवे वे गुजरेगा, श्रमिक वहीं से लिए जाएंगे।

जून से शुरू होगा निर्माण –

बता दें की गंगा एक्सप्रेसवे का निर्माण काम इस साल जून से शुरू होगा। इससे पहले जमीन खरीदने का काम पूरा कर लिया जाएगा। एक्सप्रेसवे के लिए 37500 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च होंगे। दरअसल गंगा एक्सप्रेसवे का निर्माण तीन साल में पूरा हो जाएगा। साथ ही इसके दोनों ओर इंडस्ट्रियल पार्क विकसित होंगे। अच्छी बात ये है की निवेश होने व उद्योग लगने से लाखों लोगों को रोजगार मिलेगा

Leave a comment

Your email address will not be published.