देश में 16 जनवरी से होगा कोरोना वैक्सीन का अभियान शुरू

कोरोना वैक्सीन का अभियान शुरू
कोरोना वैक्सीन का अभियान शुरू

नई दिल्ली: कोरोना वैक्सीनेशन जिसका पुरा देश की जनता बेसब्री से इंतजार कर रही थी वो इंतजार अब खत्म होने आया है। शनिवार को केन्द्र सरकार ने जानकारी देते हुए बताया है कि देश में कोरोना के टीकाकरण का कार्यक्रम 16 जनवरी से शुरू किया जाएगा। देश में कोरोना की स्थिति को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समीक्षा बैठक बुलाई, जिसमें टीकाकरण अभियान को शुरू करने पर फैसला लिया गया। बैठक में कैबिनेट सेक्रेटरी, पीएम के प्रिंसिपल सेक्रटरी, हेल्थ सेक्रटरी और दूसरे बड़े अधिकारी शामिल हुए। प्रधानमंत्री मोदी ने बैठक के दौरान देशभर में कोरोना टीकाकरण की तैयारियों के बारे में जानकारी ली। साथ ही उन्होंने Co-WIN वैक्सीन डिलिवरी मैनेजमेंट सिस्टम के बारे में भी जानकारी ली।

16 जनवरी से होगा कोरोना वैक्सीन का अभियान शुरू
16 जनवरी से होगा कोरोना वैक्सीन का अभियान शुरू

बैठक में ये रहे शामिल-

बैठक में कैबिनेट सेक्रेटरी, पीएम के प्रिंसिपल सेक्रटरी, हेल्थ सेक्रटरी और दूसरे बड़े अधिकारी शामिल हुए। प्रधानमंत्री मोदी ने देशभर में कोरोना टीकाकरण की तैयारियों के बारे में जानकारी ली और इस दौरान उन्होंने Co-WIN वैक्सीन डिलिवरी मैनेजमेंट सिस्टम के बारे में भी जानकारी ली। भारत में बनी दो कोरोना वैक्सीनों को सरकार लिमिटेड इमर्जेंसी यूज की इजाजत दे चुकी है।

Delhi: कोरोना वैक्सीन के नाम पर हो रही ठगी, हो जायें सतर्क

बता दें कि सबसे पहले कोरोना कि वैक्सीन हेल्थ वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स को लगाई जानी है। जिनकी संख्या लगभग 3 करोड़ के आस पास है। इसके बाद 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों और इससे कम उम्र के उन लोगों को टीके लगेंगे जो पहले से ही किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित चल रहे हैं और ऐसे लोगों की संख्या करीब 27 करोड़ है।

16 जनवरी से होगा कोरोना वैक्सीन का अभियान शुरू
16 जनवरी से होगा कोरोना वैक्सीन का अभियान शुरू

पहले हो चुका ड्राई रन- 

Co-WIN से कोरोना टीकाकरण की रियल टाइम निगरानी, वैक्सीन के स्टॉक्स से जुड़ीं सूचनाएं, उन्हें स्टोर करने के तापमान और जिन लोगों को वैक्सीन लगनी है, उन्हें ट्रैक करने जैसे काम होंगे। अभी तक 79 लाख से ज्यादा लाभार्थियों ने Co-WIN पर रजिस्ट्रेशन कराया है। प्रधानमंत्री को देशभर में आयोजित किए गए तीन चरणों में ड्राई रन से भी अवगत कराया गया। यह एक ऐसा डिजिटल प्लेटफॉर्म है जिससे कोरोना टीकाकरण की रियल टाइम निगरानी, वैक्सीन के स्टॉक्स से जुड़ीं सूचनाएं, उन्हें स्टोर करने के तापमान और जिन लोगों को वैक्सीन लगनी है, उन्हें ट्रैक करने जैसे काम होंगे। अब तक 79 लाख से ज्यादा लाभार्थियों ने Co-WIN पर रजिस्ट्रेशन करा लिया है।

देश में कोरोना वैक्सिनेशन से पहले आज सबसे बड़ी रिहर्सल,कई जिलों में एक साथ ड्राई रन

गौरतलब है कि अब तक तीन चरणों में वैक्सीन का ड्राई रन चलाया जा चुका है। 28 और 29 दिसंबर 2020 को 4 राज्यों में दो दिन के लिए ड्राई रन का आयोजन किया गया था। इसके बाद 2 जनवरी को सभी राज्यों में ड्राई रन चलाया गया था और कल शुक्रवार को 33 राज्यों (हरियाणा, हिमाचल और अरुणाचल को छोड़कर) और केंद्रशासित प्रदेशों में वैक्सीन का ड्राई रन किया गया था।

16 जनवरी से होगा कोरोना वैक्सीन का अभियान शुरू
16 जनवरी से होगा कोरोना वैक्सीन का अभियान शुरू

पीएम मोदी ने क्या कहा-

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टीकाकरण अभियान के ऐलान के बाद कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भारत ने ऐतिहासिक कदम बढ़ाया है। 16 जनवरी से देश में टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा। ,साथ ही पीएम ने कहा कि प्राथमिकता हमारे डॉक्टर, स्वास्थ्यकर्मी, फ्रंटलाइन वर्कर्स जिसमें सफाई कर्मचारी भी शामिल हैं, उन्हें पहले दी जाएगी।

कोरोना टीकाकरण अभियान से जुड़े सभी सवालों के जवाब यहाँ पढ़ें

भारत सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशिल्ड और भारत बॉयोटेक की कोवैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी है। वैक्सीन को मंजूरी मिलने के बाद से लोग टीकाकरण अभियान की शुरुआत का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। मोदी सरकार ने शनिवार को जानकारी देते हुए बताया, इंतजार करने की जरूरत नहीं है और 16 जनवरी से टीकाकरण शुरू हो रहा है।

 कोरोना वैक्सीन का अभियान शुरू
कोरोना वैक्सीन का अभियान शुरू

टीकाकरण की कुछ महत्वपूर्ण बातें-

एक बूथ पर हर सत्र में 100 से 200 लोगों को टीका लगाया जाना है। उन पर 30 मिनट तक नजर रखी जाएगी जिससे रिएक्शन को देखा जा सके। वहीं, टीकाकरण केंद्र पर एक बार में एक ही व्यक्ति को टीका लगाया जाएगा। कोविन ऐप में पहले से रजिस्टर लोगों को ही टीका लगाया जाएगा साथ ही ऑन द स्पॉट रजिस्ट्रेशन नहीं हो सकेगा। देशभर में महामारी कोरोना वायरस से अब तक 1.50 लाख लोगों की जान जा चुकी है। वहीं, 1 करोड़ 4 लाख से ज्यादा देश में कुल मामले हैं। जिनमें से 2 लाख 21 हजार एक्टिव केस हैं और 1 करोड़ से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.