पाकिस्तान के पास कोरोना वैक्सीन खरीदने के नही हैं पैसे, मुफ्त वैक्सीन की आस

फ्री की उम्मीद में पाकिस्तान
फ्री की उम्मीद में पाकिस्तान

नई दिल्ली : दुनिया के हर देश कोविड-19 महामारी से लोगों को निजात दिलाने के लिए टीकाकरण कर रहै है । दूसरी तरफ पाकिस्तान  कोरोना वैक्सीन फ्री लेने की उम्मीद में बैठा हुआ है।

भारत चाहे तो ग्लोबल अलायंस फॉर वैक्सीन्स एंड इम्यूनाइजेशन से निर्मित ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रेजनेका की कोरोना वैक्सीन की एक करोड़ 60 लाख मुफ्त खुराक पाकिस्तान को दे सकता है।उससे पाकिस्तान 20 प्रतिशत आबादी को टीका दे सकते है। कोरोना बीमारी से अपने देशवासियों को बचाने के लिए कई देश बड़ी संख्या में कोरोना की वैक्सीन खरीद रहे हैं। ।

अंतरराष्ट्रीय समुदाय

पाकिस्तान की लोकलेखा समिति के चेयरमैन राणा तनवीर हुसैन ने सरकार के सेक्रेटरी से पूछा है कि मुफ्त में कीतने लोगों को कोरोना वैक्सीन दी जाएगी। उन को सरकार की तरफ से जवाब मे रहा गया है कि पाकिस्तान को कोरोना वैक्सीन की ज्यादा खुराख नहीं खरीदनी पड़ेगी। चीन जैसे मित्र देश की कंपनी भी पाकिस्तान में अपने टीके के तीसरे फेज का ट्रायल कर रही है। पाकिस्तान कोरोना वायरस के टीके के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय और अपने मित्र चीन के भरोसे पर बैठा है। चीन की कोरोना वैक्सीन की एक डोज की कीमत 13 डॉलर बताई गई है। वही चीन की फार्मास्यूटिकल कंपनी सिनोफार्म ने पाकिस्तान को कोरोना वैक्सीन की 10 लाख खुराक देने का वादा किया है। उन में से पांच लाख खुराक पाकिस्तान को पहले ही दी जा चुकी है।

दिल्ली नगर निगम की अनूठी पहल, प्लास्टिक कचरे के बदले खाना फ्री

स्वास्थ्य विभाग

पाकिस्तान में आब तक दो लाख 75 हजार डोज कोरोना मरीजों की देखरेख में लगे स्वास्थ्य विभाग के लोगों को दी जा चुकी है। पाकिस्तान का लक्ष्य इस साल के अंत तक सात करोड़ लोगों को टीका देने की है। बता दें कि गावी संस्था को वर्ष 2000 में स्थापित इस लिए किया गया था कि जिस से दुनिया के गरीब देशों को वैक्सीन का टीका फ्री मे दिया जा सके।

Leave a comment

Your email address will not be published.