टिकैत के पक्ष में हरियाणा के किसानों की बढ़ती संख्या से परेशान पंजाब के नेता

किसान एकजुटता
किसान एकजुटता

नई दिल्लीः कृषि कानून विरोधी आंदोलन बृहस्पतिवार को 78वें दिन में प्रवेश कर गया। समय बढ़ने के साथ ही आंदोलन स्थल का नजारा भी बदलने लगा है। अब धरना-प्रदर्शन में हरियाणा के लोगों की भागीदारी बढ़ रही है, और हरियाणा से आने वाले अधिकांश खाप पंचायतें भाकियू नेता राकेश टिकैत को ज्यादा तरजीह दे रहे हैं।

किसान एकजुटता
किसान एकजुटता

एकजुटता बनाए रखना चुनौती-

हरियाणा के खाप प्रतिनिधि आंदोलन में पंजाब के नेताओं की राजनीति और सरकार गिराने की बात का पहले ही विरोध कर चुके हैं। भले ही आंदोलन में हरियाणा-पंजाब के भाईचारे और एकजुटता के नारे लगते हों, कहीं न कहीं आंदोलन में दो धड़ा बनता दिख रहा है। संयुक्त किसान मोर्चा के नेता भी इसको लेकर चिंतित जरूर दिखते हैं और एकजुटता बनाए रखना उनके लिए भी चुनौती बन रहा है। गणतंत्र दिवस के ट्रैक्टर परेड से पहले कुंडली बार्डर पर चल रहे आंदोलन में पंजाब से आए लोगों की भीड़ ज्यादा दिखती थी, लेकिन दिल्ली में हुई हिंसा के बाद पंजाब के काफी लोग वापस लौट गए।

टिकैत का बढ़ता दबदबा-

दो दिन की मायूसी के बाद गाजीपुर बार्डर पर राकेश टिकैत के आह्वान के बाद उत्तर प्रदेश के अलावा हरियाणा के लोग बड़ी संख्या में आंदोलन में शामिल होने लगे। स्थिति यह है कि कुंडली बार्डर पर अब पंजाब व हरियाणा के लोगों की भागीदारी लगभग बराबर हो गई है.हरियाणा और स्थानीय लोगों की भागीदारी बढ़ने से पंजाब से आए लोग और किसान नेता उत्साहित जरूर हैं, लेकिन इनके आने से अब कुंडली बार्डर पर भी राकेश टिकैत का दबदबा बढ़ता दिख रहा है। 26 जनवरी से पहले यहां राकेश टिकैत की कोई चर्चा नहीं होती थी, लेकिन अब यहां आने वाले ज्यादातर लोग टिकैत की ही बातें करते हैं।

खूब बिक रहे कटआउट-

आंदोलन स्थल अब राकेश टिकैत के पोस्टर, कटआउट आदि के लिए स्टाल भी लगने लगे हैं। यही नहीं, स्टाल पर टिकैत की फोटो छपी टी-शर्ट की भी धड़ल्ले से बिक्री की जा रही है और आंदोलन में आने वाले लोग इसे खूब खरीद भी रहे हैं। स्टाल पर टी-शर्ट व कटआउट बेच रहे सुरजीत ने बताया कि उनके पास से रोजाना 50-60 टी-शर्ट, कटआउट बिक जाते हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.