जहां प्रशासन ने लगायी थी किलें वहां राकेश टिकैत ने लगाए फूल, खुद चलाया फावड़ा

किलों की जगह फूल
किलों की जगह फूल

नई दिल्लीः देश में किसान आंदोलन हर रोज़ एक नया मोड़ ले रहा है, भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने शुक्रवार को गाजीपुर बॉर्डर पर एक महान कार्य किया हैं. बता दें की गाजीपुर में जहां प्रशासन ने किले लगायी थी वहां पर राकेश टिकैत फूल लगते दिखे।

किलों की जगह फूल
किलों की जगह फूल

सड़क पर किलों की जगह फूल-

दरअसल 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के बाद गाजीपुर समेत सभी प्रदर्शन स्थलों पर पुलिस ने किलेबंदी की है. गाजीपुर में पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को आने से रोकने के लिए सड़क पर कीलें लगाई. हालांकि अब कई जगहों से इसे हटा लिया गया. तो वही राकेश टिकैत ने कील वाली जगह पर डंफर से मिट्टी गिरवाई और फिर खुद भी फावड़ा लेकर मिट्टी को फैलाया और फूल लगा दिए।

अमेरिकी पॉप स्टार रिहाना आई किसानों के समर्थन में, जानें क्या लिखा

किलों की जगह फूल
किलों की जगह फूल

चक्का जाम का एलान-

बता दें की किसानों का आंदोलन दिल्ली की सीमाओं पर 70 दिनों से अधिक समय से चल रहा है. किसान संगठन अब भी तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. इसमें तेजी लाने के लिए शनिवार को किसान संगठनों ने देशव्यापी चक्का जाम का एलान किया है. जिसको लेकर उन्होंने कहा की चक्का जाम तीन घंटे के लिए 12 बजे से तीन बजे के बीच होगा।

किसान आंदोलन : सीसीटीवी फुटेज से हिंसा करने वालों की पहचान करने में जुटी पुलिस

किलों की जगह फूल
किलों की जगह फूल

हिंसा से बचने की कोशिश-

राकेश टिकैत के मुताबिक, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में चक्काजाम नहीं किया जाएगा.राकेश टिकैत ने कहा कि हमारे पुास पुख्ता सबूत हैं कि शनिवार को कुछ लोग चक्का जाम के दौरान हिंसा फैलाने की कोशिश करेंगे. हमारे पास पक्की रिपोर्ट है. हमने जनहित को देखते हुए उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश को चक्का जाम से अलग ही रखा है।

किसान संगठनों में फूट, 2 संगठनों ने किया प्रदर्शन खत्‍म करने का ऐलान

Leave a comment

Your email address will not be published.