उत्तराखंड: सोशल मीडिया पर देश के खिलाफ कुछ भी लिखा तो अब नहीं बनेगा पासपोर्ट

उत्तराखंड
उत्तराखंड

देहरादून: उत्तराखंड सरकार अब सोशल मीडिया पर शिकंजा कसने जा रही है अगर कोई भी व्यक्ति देश के खिलाफ कुछ भी लिखता है या देश के खिलाफ किसी गतिविधि में संलिप्त पाया जाता है तो लोग सोशल मीडिया पर बिना कुछ सोचे-समझे कुछ भी पोस्ट कर देते हैं, उन्हें अब संभल जाना चाहिए। उत्तराखंड पुलिस ने साफ किया है कि वह पासपोर्ट के लिए वेरिफिकेशन और शस्त्र लाइसेंस में सत्यापन के समय सोशल मीडिया पर भी व्यक्ति का रिकॉर्ड खंगालेगी।

उत्तराखंड :पुलिस

जिनके सोशल मीडिया अकाउंट पर देशविरोधी पोस्ट मिलीं, उनके आवेदन को तुरंत निरस्त कर दिया जाएगा। उत्‍तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने इसको लेकर सभी पुलिस अधिकारियों को सख्‍त निर्देश दिए हैं।

उत्तराखंड
उत्तराखंड

उत्तराखंड पुलिस की अनूठी पहल

आमतौर पर सोशल मीडिया पर ऐंटी नैशनल पोस्ट करने पर आईटी ऐक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया जाता है, लेकिन उत्तराखंड पुलिस की यह अपने आप में एक अनूठी पहल है। जिसका सीधा संदेश है कि अगर देश के खिलाफ कोई सोशल मीडिया पर कुछ लिखता है तो उसको यह बहुत भारी पड़ेगा।

उत्तराखंड
उत्तराखंड

पुलिस अफसरों को जारी किए दिशा-निर्देश

डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि अगर कोई पासपोर्ट या शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन करता है तो उसकी सोशल मीडिया अकाउंट की रिपोर्ट भी दी जाएगी। इससे पहले सिर्फ दर्ज मुकदमों की जानकारी दी जाती थी। अगर आवेदक के सोशल मीडिया अकाउंट्स से कोई भी देशविरोधी पोस्ट या टिप्पणी की गई है तो उसकी निगेटिव रिपोर्ट लगाकर उसके आवेदन को रद्द करने की सिफारिश की जाएगी। इसको लेकर राज्य के सभी पुलिस अधिकारियों को निर्देश दे दिए गए हैं।

सीएम के सलाहकार ने की पुलिस की तारीफ

मुख्यमंत्री के आर्थिक सलाहकार आलोक भट्ट ने भी उत्तराखंड पुलिस की इस पहल की पुष्टि की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘उत्तराखंड पुलिस शस्त्र लाइसेंस जारी करने में एक उदाहरण पेश कर रही है। जो लोग सोशल मीडिया पर ऐंटी नैशनल पोस्ट डालते हैं उन्हें किसी भी तरह का लाइसेंस जारी नहीं किया जाएगा।’

चौरी-चौरा महोत्सव की होगी शुरुआत, PM Modi जारी करेंगे डाक टिकट

Leave a comment

Your email address will not be published.