असम : आज विधायक दल की बैठक में होगा मुख्यमंत्री के नाम का खुलासा, अटकलें तेज

असम : आज विधायक दल की बैठक में होगा मुख्यमंत्री के नाम का खुलासा, अटकलें तेज
असम : आज विधायक दल की बैठक में होगा मुख्यमंत्री के नाम का खुलासा, अटकलें तेज

नई दिल्ली : असम में मुख्यमंत्री का पद किसे दिया जाएगा इस पर सस्पेंस आज भाजपा विधानमंडल दल की बैठक के बाद साफ हो जाएगा। 4 घंटे की माथापच्ची के बाद शनिवार को भाजपा ने असम के मुख्यमंत्री का नाम तय कर लिया है, लेकिन जो नाम सामने आ रहा है उससे पार्टी के सामने आने वाले दिनों में कई चुनौतियां बढ़ती दिखाई दे रही हैं। इसीलिए किसी का नाम घोषित करने की बजाय विधायकों की राय लेने का फैसला लिया गया है।

असम : आज विधायक दल की बैठक में होगा मुख्यमंत्री के नाम का खुलासा, अटकलें तेज
असम : आज विधायक दल की बैठक में होगा मुख्यमंत्री के नाम का खुलासा, अटकलें तेज

असम की पहचान को अपमानित करने वाले जनता को बर्दाशत नही- पीएम मोदी

सूत्रों की मानें तो इसके पीछे आरएसएस है, जिसने भाजपा की ओर से दिए नाम पर अड़ंगा लगा दिया है। बताया जा रहा है कि भाजपा का एक बड़ा धड़ा सर्बानंद सोनोवाल को मुख्यमंत्री बनाने की पैरोकारी कर रहा है। तो एक लॉबी ऐसी भी है जो चाहती है कि चुनाव के प्रमुख रणनीतिकार रहे स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा को मुख्यमंत्री बनाया जाए।

बेजीपी की पहली सरकार बनाने में शर्मा की अहम भूमिका

सोनोवाल राज्य की कथारी आदिवासी समुदाय से आते हैं। वही हेमंत बिस्व शर्मा नॉर्थ-ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के संयोजक रहे हैं। 2016 में पूर्वोत्तर में भाजपा की पहली सरकार बनवाने में हेमंत बिस्व शर्मा की अहम भूमिका थी, लेकिन ये चुनाव भाजपा ने सर्बानंद सोनोवाल को मुख्यमंत्री चेहरा घोषित करके लड़ा था।

असम : आज विधायक दल की बैठक में होगा मुख्यमंत्री के नाम का खुलासा, अटकलें तेज
असम : आज विधायक दल की बैठक में होगा मुख्यमंत्री के नाम का खुलासा, अटकलें तेज

स्टार स्प्रिंट हिमा दास बनीं असम की डीएसपी, असम सरकार ने दिया सम्मान

इस बार मुख्यमंत्री सोनोवाल थे जरूर, मगर चुनाव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चेहरे पर लड़ा गया। चुनाव की रणनीति बनाने में हेमंत बिस्व शर्मा की भूमिका इस बार भी अहम रही। जिसके आधार पर पार्टी की एक लॉबी हेमंत बिस्व शर्मा को मुख्यमंत्री बनाए जाने की पैरोकारी कर रही है, लेकिन भाजपा के शीर्ष नेताओं में इस मुद्दे पर एक राय नहीं है।

सोनोवाल और शर्मा के नाम पर पार्टी में अलग-अलग पक्ष

कोई पार्टी काडर को आगे बढ़ाने का पक्ष रख रहा है, तो कोई भविष्य की सियासत के मद्देनजर दूसरे दलों में से आए उन नेताओं पर भी भरोसा जताने की दलील दे रहा है जिन्होंने कम से कम 5 साल भाजपा में रहकर पार्टी की रीति नीति को समझ लिया है और अपनी निष्ठा साबित कर दी है।

असम में बंद होंगे सरकारी मदरसे? विधानसभा में विधेयक पेश

इस मामले के समाधान के लिए शनिवार को पार्टी नेताओं ने सोनोवाल और शर्मा को साथ बैठाकर बात की। बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के आवास पर करीब 4 घंटे तक चली बैठक में सोनोवाल और शर्मा के साथ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और संगठन महामंत्री बीएल संतोष भी मौजूद थे। करीब 4:00 बजे बैठक खत्म हुई। वहां से बाहर निकलते हुए शर्मा मीडिया कर्मियों के सवाल पर यह कहते हुए निकल गए कि रविवार को भाजपा विधानमंडल की बैठक में नाम तय होगा। यह बैठक गुवाहाटी में आज होगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *