हरियाणा बजट अपडेट 2021:कोरोना के कारण इस साल का बजट, लोगो के लिए बना है

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर

नई दिल्ली : आज हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने दूसरा बजट 2021-22 पेश कर दिया है । कोरोना के कारण इस बार भी बजट टैब के जरिए पेश किया है।बजट सत्र 18 मार्च तक होने वाला है। हर सरकार की तरह इस बजट में शिक्षा, स्वास्थ्य और सामाजिक कल्याण प्रणालियों को नवीनीकरण किया जा रहा है । कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए हरियाणा सरकार इस साल का बजट अब तक का सबसे महत्वपूर्ण बजट मान रही है। महामारी के चलते आर्थिक संकट लोगो और सरकार को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है। इसी वजह से इस साल का बजट अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए भी महत्वपूर्ण है।

महाशिवरात्री पर Tweet कर फंस गए सोनू सूद, सोशल मीडिया पर जमकर हुए ट्रोल

शिक्षा और विकास 

शिक्षा विशेषज्ञों की मानें तो सरकार को इस बजट में सरकारी स्कूल की हालत सुधारने पर जोर दे रही है । वही ऐसा बजट लाना होगा कि हर जिले के सरकारी स्कूल में बेहतर सुविधा हो सके।ऐसी सुविधा मिल सके जो प्राइवेट स्कूलों में दी जाती है। क्योंकि आज भी मां बाप अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में नहीं भेजना चाहते।बच्चों को प्राइवेट स्कूल में पढ़ाना पसंद  करते है।वह इसलिए क्योंकि सरकारी स्कूल की हालत खराब होती है। क्योकि न तो वहां मूलभूत सुविधाएं होती है और ना ही शिक्षा का स्तर बेहतर है। वही इस लिए सरकार को शिक्षा का बजट की ओर ध्यान देना चाहिए।

Flipkart : अगर आप लेना चाहते हैं यह बेहतरीन मोबाइल तो न करें देरी, आज है आखिरी मौका

अपडेट बजट हरियाणा सरकार 2021-2022  : –

बजट में सरकार ने वृद्धावस्‍था पेंशन 2500 रुपये कर दी है।
समावेशी शिक्षा को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से, कक्षा 9वीं से 12वीं तक सभी विद्यार्थियों को मुफ्त शिक्षा दी जाएगी।
गुणवत्तापरक शिक्षा के लिए 192 करोड़ रुपये आवंटित किये गए है।
सरकार ने अनुसूचित जाति के लोगों को मिलने वाली कानूनी सहायता 22 हजार रुपये कर दी है।
पंचकूला और हिसार स्‍मार्ट सिटी की तरह विकसित किया जाएगा ।
सुपर 100 कार्यक्रम के तहत करनाल और हिसार में दो केंद्रों का विस्तार किया जाएगा।
राजकीय बहु तकनीकी संस्थान मानेसर में इंजीनियरिंग प्रौद्योगिकी संस्थान की स्थापना की जाएगी।
हरियाणा में 18 से 60 साल के 8.36 लाख बेरोजगार हैं. इनमें से 20 से 35 साल के बेरोजगार को रोजगार के लिए कुशल बनाया जाएगा।
तहसील, उपतहसील व ब्लॉक में डिजिटल कनेक्टिविटी पर जोर दिया जाएगा ।
श्रम विभाग को 1823 करोड़ रूपये दिये गए है। और साथ ही विभाग के बजट में 40 फीसदी की वृद्धि की गई है।
निजी क्षेत्र में हरियाणा के युवाओं को न्यूनतम 50 हजार नौकरियां दी जाएंगी।
सिकरोना, फरीदाबाद, इंद्री, करनाल व जीवननगर सिरसा में 3 नए ITI 2021-22 में शुरू होगे।
प्रधानमंत्री आवास योजना के द्वार हरियाणा हाउसिंग बोर्ड की जमीन पर 20000 नए मकान बनाए जाएंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *